free website stats program
Home Blog Page 2

Bhool Bhulaiyaa 3: भूल भुलैया के अगले पार्ट में इस हसीना संग रोमांस करेंगे कार्तिक आर्यन, खूबसूरत कियारा का पत्ता कटा

0


Bhool Bhulaiyaa Sequel Part 3: कार्तिक आर्यन इन दिनों काफी खुश हैं क्योंकि उनकी हालिया रिलीज फिल्म उस कैटेगरी में शामिल हो चुकी है, जिन्होंन इस साल सबसे अच्छा परफॉर्म किया है. कार्तिक आर्यन (Kartik Aaryan) की हाल ही में फिल्म रिलीज हुई थी, जिसका नाम है- ‘भूल भुलैया 2’ (Bhool Bhulaiyaa 2). अब इस फिल्म को लेकर तीसरा पार्ट बनने की भी तैयारी है और फिल्म को लेकर बड़ा अपडेट सामने आया है. निर्माताओं ने फिल्म के तीसरे पार्ट के लिए कमर कस ली है, लेकिन इस बार कियारा आडवाणी का पत्ता साफ होने वाला है और मेकर्स अब नए नाम पर चर्चा कर रहे हैं.

‘भूल भुलैया 3’ की प्लानिंग

बॉलीवुड स्टार कार्तिक आर्यन (Kartik Aaryan) और कियारा आडवाणी (Kiara Advani) की हालिया रिलीज ब्लॉकबस्टर फिल्म भूल भुलैया 2 के बाद फिल्ममेकर्स सांतवे आसमान पर हैं. सुनने में आया है कि अपनी इस फिल्म की बंपर सक्सेस के बाद निर्माता फिल्म के तीसरे पार्ट की तैयारी में बिजी हो गए हैं. जिसके लिए निर्माताओं ने बड़ी प्लानिंग की है. सामने आ रही मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो फिल्म स्टार कार्तिक आर्यन को लेकर ‘भूल भुलैया 3’ (Bhool Bhulaiya 3) की प्लानिंग में हैं. 

बजट हुआ तैयार

इतना ही नहीं, फिल्म के तीसरे पार्ट ‘भूल भुलैया 3’ को मेकर्स और भी बड़े स्तर पर बनाने की तैयारी में हैं. सुनने में आया है कि फिल्म स्टार कार्तिक आर्यन की इस फिल्म को भी एकदम नई कहानी और नए अंदाज में पेश किया जाने वाला है. रिपोर्ट्स हैं कि भूल भुलैया 2 को जहां 90 करोड़ के बजट में बनाया गया था तो वहीं, फिल्म के तीसरे पार्ट को पूरे 140 करोड़ रुपये में बनाने की तैयारी है. इतना ही नहीं, फिल्म की लीड स्टारकास्ट को लेकर भी एक चौंकाने वाली जानकारी सामने आई है.

कियारा का पत्ता कटा

सामने आ रहीं ताजा रिपोर्ट्स की मानें तो मेकर्स फिल्म के तीसरे पार्ट के लिए एक बड़ी एक्ट्रेस की तलाश में हैं. सुनने में आया है कि इस फिल्म के लिए मेकर्स दीपिका पादुकोण के नाम पर विचार कर रहे हैं. अभी तक एक्ट्रेस को मेकर्स ने अप्रोच नहीं किया है. अगर ऐसा हुआ तो दीपिका पादुकोण और कार्तिक आर्यन की जोड़ी एकदम फ्रेश होगी. जिसे ऑन स्क्रीन देखना एकदम अलग एक्सपीरियंस होगा. लेकिन अगर दीपिका पादुकोण इस फिल्म में एंट्री करती हैं तो हो सकता है कि कियारा आडवाणी की छुट्टी हो जाए.

ये ख़बर आपने पढ़ी देश की नंबर 1 हिंदी वेबसाइट Zeenews.com/Hindi पर 





Source link

Disney+ ने स्ट्रीमिंग कस्टमर्स के मामले में नेटफ्लिक्स को पीछे छोड़ा, कीमतों में होगी बढ़ोतरी

0


हाइलाइट्स

Disney+ के स्ट्रीमिंग कस्टमर की संख्या कुल 221 मिलियन हो गई है.
इसके साथ ही कंपनी ने नेटफ्लिक को पीछे छोड़ दिया है.
नेटफ्लिक्स के पास फिलहाल 220.7 मिलियन स्ट्रीमिंग सब्सक्राइबर हैं.

नई दिल्ली. वॉल्ट डिज्नी कंपनी (DIS.N) के स्ट्रीमिंग कस्टमर की संख्या कुल 221 मिलियन हो गई है. इसके साथ ही कंपनी ने नेटफ्लिक्स इंक (NFLX.O) को पीछे छोड़ दिया. कंपनी ने घोषणा की कि यह वह उन ग्राहकों के लिए कीमतों में वृद्धि करेगी, जो विज्ञापनों के बिना Disney+ या Hulu देखना चाहते हैं. दिग्गज कंपनी डिज़्नी+ दिसंबर में बिना विज्ञापन वाले ग्राहकों के लिए कीमतों में 38% फीसदी बढ़ाकर से 10.99 डॉलर कर देगी.

2017 में डिजनी ने नेटफ्लिक्स को टक्कर देने के लिए स्ट्रीमिंग सेवा शुरू की थी. उस समय दर्शक पारंपरिक केबल और प्रसारण टेलीविजन से ऑनलाइन स्ट्रीमिंमग की ओर शिफ्ट हो रहे थे. अपनी स्थापना के पांच साल बाद, डिज्नी ने कुल स्ट्रीमिंग ग्राहकों के मामले में नेटफ्लिक्स को पीछे छोड़ दिया है.

नेटफ्लिक्स को पछाड़ा
स्टार वार्स सीरीज ओबी-वान केनोबी और मार्वल की ‘मिस मार्वल’ रिलीज होने के बाद 14.4 मिलियन डिजनी+ कस्टमर्स कंपनी से जुड़े हैं. डिज्नी ने कहा कि जून तिमाही के अंत में उसके पास 221.1 मिलियन स्ट्रीमिंग कस्टमर्स थे, जबकि नेटफ्लिक्स के पास 220.7 मिलियन स्ट्रीमिंग सब्सक्राइबर हैं.

यह भी पढ़ें- Jio Independence Day Offer : जियो के साथ करे 2999 रुपये का रिचार्ज, एक साल तक पाएं फ्री डेटा और अन्य ऑफर

संघर्ष कर रही है नेटफ्लिक्स
Investing.com के विश्लेषक हारिस अनवर ने कहा कि जब नेटफ्लिक्स अधिक कस्टमर्स को जोड़ने के लिए संघर्ष कर रही है, तब डिज्नी बाजार में अधिक हिस्सेदारी हासिल कर रही है. डिज़्नी के पास अभी भी अंतरराष्ट्रीय बाजारों में बढ़ने का मौका है. यह अपनी सेवा तेजी से शुरू कर रहा है और नए ग्राहकों को जोड़ रही है.

नया वर्जन पेश करेगी डिज्नी
कंपनी ने कहा है कि वह नए ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए डिज्नी 8 दिसंबर से एक विज्ञापन सपोर्टिड वर्जन की पेशकश करेगी, जिसकी कीमत 7.99 डॉलर होगी. एड फ्री वर्जन के लिए भी इतनी ही कीमत है. साथ ही दिसंबर से हुलु की कीमतें में भी एक से दो डॉलर तक बढ़ जाएंगी.

80 मिलियन डिजनी + हॉटस्टार कस्टमर्स जुड़ने की उम्मीद
कंपनी की चीफ फाइनेंशल ऑफिसर क्रिस्टीन मैकार्थी ने कहा कि डिजनी को सितंबर 2024 तक 80 मिलियन डिजनी + हॉटस्टार कस्टमर्स जुड़ने की उम्मीद है. मैकार्थी ने कहा कि कंपनी को अभी भी उम्मीद है कि उसकी स्ट्रीमिंग टीवी यूनिट वित्तीय वर्ष 2024 में लाभ कमाएगी. हालिया तिमाही में डिवीजन को 1.1 बिलियन डॉलर का नुकसान हुआ.



Source link

Ford CEO would not hope electric motor vehicle battery fees to drop whenever soon

0
Ford CEO doesn't expect electric vehicle battery costs to drop anytime soon


Ford CEO Jim Farley poses with the Ford F-150 Lightning pickup truck in Dearborn, Michigan, May perhaps 19, 2021.

Rebecca Prepare dinner | Reuters

WAYNE, Mich. – Ford Motor CEO Jim Farley does not assume the charges of uncooked products for the firm’s electric vehicles to relieve in the around long run, marking the latest signal that automakers will keep on climbing rates for their new EVs.

“I never imagine you will find going to be a great deal relief on lithium, cobalt and nickel at any time quickly,” Farley instructed reporters Wednesday in the course of an occasion at the automaker’s Michigan Assembly Plant.

Farley’s opinions occur a day following the Detroit automaker introduced it would be elevating the commencing selling prices for its electrical F-150 pickup thanks to “major materials price increases.” The boosts range from $6,000 to $8,500, dependent on the product. Ford isn’t really by itself: Rival Tesla amplified its U.S. prices in June.

Selling prices of all lithium, cobalt and nickel have risen sharply above the earlier yr as desire from battery makers has outpaced miners’ efforts to boost supply.

Farley said the speedy-growing prices of the minerals used in its present-day lithium-ion batteries are why Ford strategies to present lessen-price lithium iron phosphate, or LFP, batteries in motor vehicles these types of as the F-150 Lightning and Mustang Mach-E crossover.

“I you should not imagine we should be self-confident in any other outcomes, than an maximize in selling prices,” he mentioned. Which is why we feel LFP technology is vital … We want to make these inexpensive.”

Go through extra about electrical automobiles from CNBC Professional

Previous thirty day period, Ford claimed it will start off presenting LFP batteries from Chinese battery huge CATL that do not use nickel or cobalt as a reduced-price choice in the Mustang Mach-E following year. The company options to broaden the choice to the F-150 Lightning in 2024.

Ford also has invested in Colorado-based battery startup Stable Electricity, a person of a number of businesses performing to develop stable-condition batteries for electric powered autos. Sound-state batteries have the opportunity to give EV proprietors far more vary, shorter recharging instances, and a decreased hazard of fires than present-day batteries.

Solid Energy explained Tuesday that it really is on monitor to deliver prototype batteries to Ford and BMW, also an trader, by the close of the yr. But autos making use of the batteries are continue to at least a few a long time away.



Resource hyperlink

Google pushes Apple to adopt a new kind of text messaging, criticizes ‘green bubbles’

0
Google pushes Apple to adopt a new kind of text messaging, criticizes 'green bubbles'


Android mascots are lined up in the demonstration region at the Google I/O Builders Conference in the Moscone Center in San Francisco.

Beck Diefenbach | Reuters

Google, the developer of the Android, is rising the tension on Apple to adopt RCS, a future-generation conventional for text messaging.

It argues that Apple’s assistance of RCS would enable protect against some of the troubles that occur when Apple iphone customers text with Android proprietors. Currently, pictures and video will not show as plainly as they could, for case in point, and texts can’t be sent in excess of Wi-Fi networks.

Google executives have recommended that Apple will not assist RCS for the reason that its individual technique, iMessage, allows the Cupertino organization retain Apple iphone people by locking them into the Apple ecosystem.

In a web page and publicity campaign on Tuesday, Google blamed Apple for generating a substandard experience when iPhones text Android telephones or vice versa.

“We’re hoping that Android customers cease being blamed for ruining chats,” Google international vice president for integrated marketing and advertising for platforms, Adrienne Lofton, mentioned. “This is Apple that is accountable, and it is time to possess the obligation.”

The marketing campaign is a noteworthy escalation in an ongoing compatibility spat among the two corporations that dominate application for smartphones. Approximately all smartphones in the environment both run Android or Apple’s iOS, and Apple’s Apple iphone has around 55% of the U.S. market place, in accordance to StatCounter.

Google needs Apple to aid the RCS “normal,” or requirements that make it possible for many various businesses such as carriers or cellphone makers to build apps that can deliver and acquire RCS messages. Many Android telephones by now have developed-in messaging applications that help RCS.

A essential battleground

Messaging solutions have turn into a essential battleground for tech giants due to the fact if a user’s contacts all use the same services, then the person is “locked-in” and fewer most likely to change to a different system or app.

Fb father or mother Meta, which owns WhatsApp, has said that it competes straight with Apple since of how broadly used iMessage is in the United States. Messaging has also drawn attention from some policymakers who are pushing to drive competing providers to perform with each other beneath good competitiveness regulations.

Hiroshi Lockheimer, a Google senior vice president in charge of Android, claimed before this year that Apple is employing its personal text messaging system to lock in its shoppers, referring to inside Apple emails that had been created community all through a lawsuit past yr that confirmed senior Apple executives capturing down proposals to bring an iMessage application to Android.

Browse a lot more about tech and crypto from CNBC Pro

“I am worried iMessage on Android would simply just serve to take out an impediment to Iphone people supplying their little ones Android phones,” present Apple senior vice president in charge of program Craig Federighi wrote in 2013, according to an email.

Apple’s iMessage is marginally unique from other messaging expert services for the reason that it is the default text messaging application on the Iphone.

Apple’s systems detect when an Iphone texts a further Iphone and, alternatively of sending that concept through the SMS technique, it makes use of Apple’s individual proprietary iMessage network. Consumers see the text they sent as a “blue bubble,” as opposed to the eco-friendly coloration found on SMS texts, like these to Android customers. The inferiority of “inexperienced bubble” texts has turn into a meme and influenced a tune by the musician Drake.

iMessage chats present a much better consumer working experience than SMS chats on an Iphone. A lot of of Apple’s attributes, like including emoji reactions to a solitary text information, barely operate on SMS chats. iMessage chats truly feel faster mainly because of Apple’s animations and incorporate attributes like bubbles that reveal no matter whether a person is typing, and exceptional team chat administration.

Apple proceeds to distinguish iMessage from SMS via new features, like the potential to unsend or edit messages, which will be unveiled this tumble.

Green bubbles

Inexperienced and blue bubbles.

Pattonmania | Istock | Getty Photographs

Google claims that it isn’t going to want Apple to bring iMessage to Android, but that it wishes Apple to help RCS, which was made by a group of wi-fi carriers and other tech companies to be an enhancement to the SMS and MMS units that have been in location for many years.

Google’s campaign on Tuesday emphasizes that RCS guidance for iPhones would make it possible for numerous new attributes when an Apple iphone person texts an Android user, including bigger-resolution shots, the means to send out texts in excess of Wi-Fi, and the potential to exhibit go through receipts.

Google also claims that RCS messages are encrypted although SMS messages are not, indicating that the new conventional is far more private.

“If [Apple] adopted the platform, it makes it possible for buyers to love things like large-res shots and video clip sharing, go through receipts, loaded reactions,” Lofton reported. “And this is an important a single — improved security and privacy with encryption.”

But SMS is not important for messaging in quite a few markets and Google’s campaign is concentrated on the U.S. current market. In quite a few nations around the world, people textual content through applications such as WhatsApp or Telegram or WeChat.

In actuality, Google advisable in its marketing campaign on Tuesday that buyers could by now obtain Signal or WhatsApp, pointing out that those no cost apps are as safe as RCS guarantees to be.

Apple has remained silent on RCS and carries on to insert features to iMessage, which only works on iPhones and other Apple solutions. Apple did not respond to a request for remark.





Resource backlink

Samsung just announced two new phones that fold in half

0
Samsung just announced two new phones that fold in half


Samsung Galaxy Z Fold 4

Samsung

Samsung on Wednesday announced its newest foldable phones, the Galaxy Z Flip 4 and Galaxy Z Fold 4. 

The $999.99 Galaxy Z Flip 4 and the $1,799.99 Galaxy Z Fold 4 look very similar to last year’s Flip 3 and Fold 3. The Galaxy Z Flip 4 is a small pocketable square that opens up to reveal a 6.7-inch screen inside. The Galaxy Z Fold 4 is a skinny phone that opens like a book to reveal a tablet-sized 7.6-inch screen.

Samsung said both phones are the company’s toughest foldable phones yet, thanks to stronger aluminum frames and Corning glass on the outside that’s more resistant to scratches and damage from drops.

Samsung typically releases new high-end phones, including ones with folding screens, in August. It gives it a chance to get its latest flagships on the market before Apple’s new iPhones, which typically launch in September.

The company hopes to make foldable phones “mainstream,” according to its most recent earnings statement released on July 28. It is aiming for foldable phone sales to surpass that of its past flagship smartphone, Galaxy Note, in the second half.

Folding phones are currently a niche part of the overall smartphone market, but Samsung is betting its continued investment will help bolster its mobile division, which has been hit by rising materials costs and waning consumer demand. 

Here’s what you need to know about Samsung’s new phones:

Galaxy Z Flip 4

Samsung Galaxy Z Flip 4

Samsung

Samsung’s Galaxy Z Flip 3 is currently the most popular foldable phone in the world, so the company has big hopes for the Flip 4.

The 6.7-inch screen size of the Galaxy Z Flip 4 is the same as its predecessor, but it has a longer-lasting battery. The Flip 4 also has a slimmer hinge, making the seam less obvious.

The camera on the Flip 4 has been upgraded with a sensor that is 65% brighter. Users are now able to take selfies in portrait mode. Also on the Flip 4, users can shoot hands-free video by partially folding the flip to activate FlexCam. Samsung has partnered with Meta so this feature can be used on Facebook, WhatsApp and Instagram.

Samsung Galaxy Z Flip 4

Samsung

The Flip 4 also has more capabilities while it’s folded. Without opening the phone, users can make calls, video chat and reply to texts.

It has Super Fast charging which offers up to 50% battery in 30 minutes.

Galaxy Z Fold 4

Samsung Galaxy Z Fold 4

Samsung

The Galaxy Z Fold 4 is the first device to ship with Android 12L, a special version of Android created by Google for large-screen devices.

The camera on the Galaxy Z Fold 4 has been upgraded to a 50MP wide lens and a 30x zoom lens. A brightened sensor and enhanced processing power will help users take better pictures at night.

Like the Fold 3, the interior camera on the Fold 4 hides inside the screen to create a more seamless viewing experience.

It has Super Fast charging which offers up to 50% battery in 30 minutes just like the Flip 4.

Read more about tech and crypto from CNBC Pro

Both of Samsung’s new folding phones support the company’s S Pen stylus, a feature that drew consumers to its Galaxy Note phones for years. But, like last year, there’s no place to store it in the Galaxy Z Fold 4, as you used to be able to do on Galaxy Note phones.

A new taskbar on the Z Fold 4 shows your favorite apps, while new swiping gestures on the phone make switching between applications more intuitive. The Z Fold 4 screen is also brighter than the Fold 3 and has a higher refresh rate than earlier models, which makes things like scrolling through websites smoother.

Samsung will accept orders for the new phones beginning Wednesday and will ship them on Aug. 26.

Galaxy Watch 5 and Galaxy Watch 5 Pro

Samsung Galaxy Watch 5

Samsung

Galaxy Buds 2 Pro

Samsung Galaxy Buds 2 Pro

Samsung

Lastly, Samsung debuted a new generation of earbuds called the Galaxy Buds 2 Pro. Most notably, these wireless headphones have a technology called Intelligent Active Noise Cancellation. They tune out sound around you but can also determine when someone is talking to you and lower the volume so you can hear what someone is saying. They come in three colors: white, black and purple. The buds launch on Aug. 26 for $229.99.



Source link

Moto G62 5G आज भारत में लॉन्च होने के लिए तैयार, मिलेगा दमदार कैमरा और बैटरी

0


हाइलाइट्स

Moto G62 5G भारत में आज फ्लिपकार्ट के ज़रिए लॉन्च किया जाएगा.
सेल के लिए मोटो के इस फोन को फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध कराया जाएगा.
लॉन्चिंग से पहले फोन के कई खास फीचर्स का खुलासा हो गया है.

मोटोरोला आज (11 अगस्त) भारत में अपना नया स्मार्टफोन Moto G62 5G लॉन्च करने के लिए तैयार है.  फोन का टीज़र कुछ दिन पहले से ही फ्लिपकार्ट पर लाइव हो गया है, जिसका मतलब साफ है कि इस फोन को एक्सक्लूसिव तौर पर फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध कराया जाएगा. फ्लिपकार्ट लिस्टिंग के मुताबिक Moto G62 5G में 6.5-इंच का पंच-होल डिस्प्ले दिया जाएगा, जिसमें FHD + रेज़ोलूशन और 120Hz रिफ्रेश रेट मिलेगा.  इसमें एक राउंड शेप में रियर कैमरा मॉड्यूल है और एक साइड-माउंटेड फिंगरप्रिंट स्कैनर भी मौजूद है. ये डिवाइस डॉल्बी एटमॉस के साथ स्टीरियो स्पीकर के साथ आएगा.

कैमरे के तौर पर Moto G62 5G में ट्रिपल रियर कैमरा दिया गया है, जिसमें 50 मेगापिक्सल का मेन सेंसर, 8 मेगापिक्सल का अल्ट्रा-वाइड और डेप्थ सेंसर और 2 मेगापिक्सल का मैक्रो यूनिट मिलता है. ऐसा माना जा रहा है कि ये फोन स्नैपड्रैगन 695 प्रोसेसर से लैस होगा. Moto G62 5G मिडनाइट ग्रे और फ्रॉस्टेड ब्लू कलर ऑप्शन में आ सकता है.

(ये भी पढ़ें- स्क्रीनशॉट ब्लॉक से लेकर ऑनलाइन स्टेटस छुपाने तक, WhatsApp पर आ रहे हैं 3 धांसू फीचर्स!)

मिलेगी 6GB RAM!
इसे 128GB इंटरनल स्टोरेज के साथ 6GB और 8GB रैम ऑप्शन में पेश किया जाएगा. पावर के लिए इस डिवाइस में 5,000mAh की बैटरी दी जा सकती है, जो कि 20W के टर्बो पावर फास्ट चार्जिंग के साथ आ सकता है.

यूरोप में पहले ही पेश किए जा चुके फोन से फीचर्स का अंदाज़ा लगाया जा सकता है. ये फोन साइड माउंटेड फिंगरप्रिंट स्कैनर और फेस अनलॉक भी मिलता है. ये डॉल्बी एटमॉस के सपोर्ट के साथ आता है, और इसमें डुअल स्पीकर्स हैं. नीचे की तरफ इसमें यूएसबी टाइप-सी पोर्ट है.

ये भी पढ़ें: Gmail की धांसू Trick: बस इस एक सेटिंग को ON करने पर नहीं आएगा कोई भी फालतू Email, ये है तरीका

कितनी हो सकती है कीमत
मोटोरोला का ये फोन भारत में कितनी कीमत में लॉन्च किया जाएगा, फिलहाल इस बात की कोई ऑफिशियल जानकारी नहीं है, लेकिन. लेकिन कुछ रिपोर्ट्स में इसकी कीमत का खुलासा हुआ है. 91Mobiles पर छपी एक रिपोर्ट की मानें तो इस फोन को 16,999 रुपये की कीमत में लॉन्च किया जा सकता है. यानी कि ये फोन एक मिड-रेंज सेगमेंट में आएगा.

Tags: Flipkart, Mobile Phone, Motorola, Tech news



Source link

Team India: 3 मैचों में ही खत्म हुआ टीम इंडिया के इस घातक गेंदबाज का करियर! टी20 WC खेलने का था दावेदार

0


Team India: टीम इंडिया के तेज गेंदबाजों का जलवा इस समय पूरी दुनिया में देखने को मिल रहा है. वेस्टइंडीज के दौरे पर भी भारतीय गेंदबाजों का बोलबाला रहा. अब टीम इंडिया के सामने जिम्बाब्वे और फिर एशिया कप में पाकिस्तान जैसी टीमों की चुनौती रहने वाली है, जिसके लिए टीम इंडिया का ऐलान भी हो चुका है, लेकिन इन टीमों एक गेंदबाज को जगह नहीं मिली है. इस खिलाड़ी ने हाल ही  में टीम इंडिया के लिए डेब्यू किया था, मगर तीन मैच के बाद ही इस खिलाड़ी को टीम से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया. ये खिलाड़ी टी20 वर्ल्ड कप 2022 में भी खेलने का बड़ा दावेदार माना जा रहा था. 

अचानक टीम से बाहर हुआ ये खिलाड़ी

आईपीएल 2022 के बाद से ही टीम इंडिया में युवा खिलाड़ियों को काफी मौके भी दिए गए हैं. इन मौकों का सबसे ज्यादा फायदा युवा तेज गेंदबाज अर्शदीप सिंह (Arshdeep Singh) ने उठाया है. अर्शदीप एशिया कप में भी टीम का हिस्सा हैं. वहीं आईपीएल में अपनी घातक तेज गेंदबाजी से धमाल मचाने वाले उमरान मलिक (Umran Malik) टीम से गायब से हो गए हैं. वह जिम्बाब्वे दौरे और फिर एशिया कप के लिए टीम में जगह नहीं बना सके हैं. 

आयरलैंड दौरे पर किया था डेब्यू

उमरान मलिक (Umran Malik) ने हाल ही में आयरलैंड के खिलाफ अपना डेब्यू मैच खेला था, मगर वे 3 मैच खेलने के बाद ही टीम इंडिया से बाहर हो गए हैं. उमरान मलिक (Umran Malik) आईपीएल 2022 के शानदार प्रदर्शन को इंटरनेशनल क्रिकेट में नहीं दोहरा सके हैं. उमरान मलिक (Umran Malik) के लिए अब टीम में वापसी करना नामुमकिन के बराबर रहने वाला है. एशिया कप 2022 (Asia Cup 2022) में भारतीय खिलाड़ियों के प्रदर्शन को देखते हुए ही टी20 वर्ल्ड कप के लिए टीम का चयन होगा, ऐसे में उनके लिए टीम में जगह बनाना काफी मुश्किल होगा. 

टीम इंडिया में पूरी तरह हुआ फ्लॉप

उमरान मलिक (Umran Malik) ने टीम इंडिया के लिए अभी तक 3 टी20 मैच खेले हैं, जिसमें उन्होंने 12.44 की इकॉनमी से रन दिए हैं और 2 विकेट ही हासिल किए हैं. उनके इस खराब प्रदर्शन को देखते हुए टीम से बाहर किया गया है. हाल ही में उमरान मलिक को इंग्लैंड के खिलाफ तीसरे टी20 मैच में भी मौका दिया गया था, लेकिन उन्होंने अपने चार ओवरों में 56 रन गवांकर केवल एक विकेट लिया. वहीं आईपीएल 2022 में उमरान ने 14 मैचों में 22 विकेट लिए थे. उनका ये खराब प्रदर्शन अब उनके करियर पर भारी पड़ रहा है. 

ये ख़बर आपने पढ़ी देश की नंबर 1 हिंदी वेबसाइट Zeenews.com/Hindi पर





Source link

Disney lowers more time-expression forecast for Disney+ subscribers by 15 million

0
Disney lowers longer-term forecast for Disney+ subscribers by 15 million


An inflatable Disney+ symbol is pictured at a press celebration in advance of launching a streaming support in the Middle East and North Africa, at Dubai Opera in Dubai, United Arab Emirates, June 7, 2022.

Yousef Saba | Reuter

Disney on Wednesday reduced its for a longer period-expression forecast for Disney+ to 215 million to 245 million subscribers, down 15 million on equally the lower end and substantial end of the company’s earlier direction.

Disney had beforehand set its Disney+ guidance in December 2020 at 230 million to 260 million by the conclusion of fiscal 2024. The firm reaffirmed its expectation that Disney+ will turn into lucrative by the stop of its fiscal 2024 calendar year. Disney’s streaming providers shed $1.1 billion in its most the latest quarter.

Disney is lowering its forecast for Disney+ following failing to renew Indian Premier League rights for its Disney+ Hotstar streaming provider. Excluding Hotstar, Disney Main Money Officer Christine McCarthy mentioned Disney+ subscribers must be amongst 135 million and 165 million by the conclusion of 2024, mostly in line with the firm’s prior forecast, when it explained main Disney+ should really make up 60% to 70% of whole prospects. The new forecast for Hotstar is “up to 80 million,” she said.

Disney shares rose just about 7% after several hours, signaling investors may perhaps have feared an even more substantial slash to the streaming outlook. Various analysts had predicted Disney management would lower its guidance this quarter.

Earlier Wednesday, the corporation declared subscriber development numbers properly above Wall Street’s expectations. As of the most recent quarter, Disney+ experienced 152 million subscribers, the company claimed.

Enjoy: NYT’s James Stewart on Disney’s theme park rebound



Source connection

पर्दे से अचानक कहां गायब हो गया Aamir Khan की मेला का खूंखार गुज्जर डाकू, जिसे देख कांप उठी थी रूपा की रूह

0


Mela Movie Gujjar: आमिर खान (Aamir Khan) की लाल सिंह चड्ढा (Laal Singh Chaddha) रिलीज होने जा रही है. फिल्म को लेकर काफी कुछ सुनने को मिल रहा है. खैर फिल्म का जो भी होगा वो पता चल ही जाएगा लेकिन अगर आमिर खान की बात चली है तो उनकी फिल्म मेला का नाम अक्सर जुबां पर आ जाता है बावजूद इसके कि ये फिल्म उनके करियर की सुपर फ्लॉप मूवी थी. लेकिन इस फिल्म के किरदार इतने दिलचस्प थे कि आज भी इनका जिक्र गाहे बगाहे हो ही जाता है. ऐसा ही किरदार था गुज्जर डाकू (Gujjar Daku) का जिसके सितम और जुल्म ने बेचारी रूपा और गांव वालों के ही नहीं बल्कि दर्शकों की आंखों में भी आंसू ला दिए थे. ये रोल इतना फेमस हुआ था कि आज भी इस रोल को करने वाले टीनू वर्मा (Tinu Verma) को सबसे खतरनाक विलेन की लिस्ट में शामिल किया जाता है. लेकिन अचानक से टीनू वर्मा भला कहां गायब हो गए और वो आजकल क्या कर रहे है?

 

कई फिल्मों में किया काम

साल 2000 में आई आमिर खान, ट्विकल खन्ना की मेला फिल्म से टीनू वर्मा को रातों रात शोहरत मिल गई थी लेकिन वो इससे पहले भी फिल्मों में काम करते रहे थे. बतौर एक्टर वो मेला से पहले आंखे, घातक और हिम्मत में दिखे तो वहीं मेला के बाद मां तुझे सलाम के अलावा भोजपुरी फिल्मों में काम किया. खास बात ये है कि टीनू वर्मा ना सिर्फ एक्टर थे बल्कि वो जाने माने स्टंट डायरेक्टर भी हैं. 1992 में आई शोला और शबनम से लेकर सनी देओल की गदर तक में उन्होंने ही स्टंट डायरेक्टर की कमान संभाली और हर बार अपने काम से लोगों को इम्प्रेस किया.  

 

भाई को तलवार मारकर कर दिया था घायल

2013 में एक निजी विवाद के चलते टीनू वर्मा ने अपने सौतेले भाई पर तलवार से हमला कर दिया था और फिर फरार हो गए थे. जिसके बाद पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया था. तब से लेकर अब तक टीनू वर्मा बड़े पर्दे से पूरी तरह दूर हैं. हालांकि 2016 में और 2020 में उन्होंने भोजपुरी फिल्म में बतौर एक्टर काम किया लेकिन हिंदी सिनेमा से वो लगभग गायब से हो गए हैं. 

 

ये ख़बर आपने पढ़ी देश की नंबर 1 हिंदी वेबसाइट Zeenews.com/Hindi पर 

 

 

 

   





Source link

FCC denies SpaceX bid for practically $1 billion in rural broadband subsidies for Starlink

0
FCC denies SpaceX bid for nearly $1 billion in rural broadband subsidies for Starlink


A Starlink satellite terminal, also recognized as a dish, setup in front of an RV.

SpaceX

The Federal Communications Commission on Wednesday denied SpaceX’s bid for just about $1 billion in subsidies to assist rural broadband customers by way of the company’s Starlink satellite world-wide-web community.

SpaceX, which is controlled by Elon Musk, experienced been awarded $885.5 million in the FCC’s $9.2 billion auction in December 2020 below the regulator’s Rural Electronic Alternatives Fund. The company sought funding to present satellite internet provider to nearly 650,000 spots in 35 states, the FCC noted.

The FCC subsidies are made to be an incentive for broadband suppliers to bring assistance to the “unserved” and difficult-to-attain locations of the United States.

In a push release, the FCC stated both equally Starlink and LTD Broadband – a different company that initially was awarded $1.3 billion in subsidies beneath the software – “failed to reveal that the vendors could deliver the promised support.”

“We will have to set scarce universal assistance dollars to their ideal doable use as we transfer into a electronic foreseeable future that demands at any time more strong and a lot quicker networks. We can’t afford to pay for to subsidize ventures that are not providing the promised speeds or are not most likely to meet plan specifications,” FCC Chairwoman Jessica Rosenworcel claimed in a statement.

Rosenworcel additional that SpaceX’s technologies has “genuine assure” but emphasized that Starlink is even now “developing.”

SpaceX did not straight away react to CNBC’s request for remark.

Notably, the FCC’s auction in December 2020 represented the initial stage in the total $20.4 billion RDOF software – meaning SpaceX will probably bid in afterwards auction rounds for the remaining cash. Musk’s corporation was the 4th greatest awardee in conditions of greenback price in the 1st auction among the 180 bidding organizations.

Starlink is the company’s system to develop an interconnected world-wide-web community with thousands of satellites, designed to deliver superior-velocity net to everywhere on the earth. SpaceX has released more than 2,700 Starlink satellites to orbit, and the services had much more than 400,000 subscribers as of Could. The business has lifted money steadily to fund development of both of those Starlink and its subsequent-technology rocket Starship, with $2 billion brought in just this 12 months.

The FCC’s denial of Starlink from the RDOF application comes shortly right after a individual but essential authorization for SpaceX to offer cell Starlink internet service to boats, planes and vehicles.



Resource backlink