Facebook पर सावधान रहें दुकानदार! हो रहे हैं बड़े-बड़े फ्रॉड

0
22


नई दिल्ली. Facebook अब सिर्फ एक सोशल मीडिया ऐप नहीं है, बहुत-सारे लोग यहां अपना काम भी चमका रहे हैं. फेसबुक पर आप अपने प्रोडक्ट बेच सकते हैं और ग्राहक सीधा आपसे संपर्क करके खरीद भी सकते हैं. लेकिन आपको ये जानकर हैरानी होगी कि फेसबुक की तरफ से दी गई इस सुविधा का नाजायज लाभ उठाकर बड़े स्तर पर फ्रॉड (Cyber Fraud) किया जा रहा है. इसके बारे में अच्छे से जानने के लिए आपको फतेहाबाद (हरियाणा निवासी) निर्मल के साथ हुआ घटनाक्रम जरूर समझ लेना चाहिए. इस तरह की ठगी के बारे में कोई सोच भी नहीं सकता.

निर्मल का सैनेटरी वेयर (पाइप्स और वाटर टैंक्स) का शोरूम है. ऑफलाइन काम के साथ-साथ निर्मल ने बिजनेस बढ़ाने के लिए Facebook Marketplace पर भी अपने प्रॉडक्ट लिस्ट किए हुए हैं. फेसबुक से जानकारी लेकर अक्सर लोग उनसे संपर्क करते हैं और सामान खरीदकर ले जाते हैं. कई बार लोगों की डिमांड पर निर्मल होम डिलीवरी भी करवाते हैं.

आर्मी के नाम पर हो रही धोखाधड़ी

एक दिन निर्मल के पास एक फोन आया. कॉल करने वाले ने अपना नाम राजेश बताया और कहा कि हिसार स्थित आर्मी केंट से बोल रहा है. उसने निर्मल से पूछा कि फेसबुक पर आपने जो वाटर टैंक दिखाए हैं, क्या अब भी आपके पास हैं? दुकानदार निर्मल ने हां में जवाब देते हुए कहा, “’’टैंक तो हैं, लेकिन हम अपने शहर में ही डिलीवर करवाते हैं, शहर के बाहर नहीं, क्योंकि उसमें लागत काफी आती है और ग्राहक वो लागत देना नहीं चाहता.” (बता दें कि फतेहाबाद (जहां दुकान है) से हिसार की दूरी लगभग 50 किलोमीटर है.)

माहौल ऐसा बनाया कि भरोसा हो जाए

इस पर राजेश ने कहा कि आप उसकी चिंता मत कीजिए, आपका जो भी खर्च होगा, दे दिया जाएगा. फिर भी वह इस खर्च के बारे में अपने सीनियर ऑफिसर से कन्फर्म करके बता देगा. फिलहाल आर्मी कैंट में 2000 लीटर की क्षमता वाले 10 वाटर टैंक्स की आवश्यकता है.

ये भी पढ़ें- Facebook पर “दोस्त” ने किया फ्रॉड, हकीकत पता चली तो उड़े होश

निर्मल ने राजेश से कहा कि ठीक है, आप कन्फर्म करके बताइए. राजेश ने तकरीबन एक घंटे के बाद फिर फोन किया और कहा कि सीनियर ऑफिसर ने भी कन्फर्म कर दिया है. जो भी अतिरिक्त खर्च होगा, उसका भुगतान कर दिया जाएगा.

निर्मल ने पूछा कि आप लोग हिसार से ही टैंक क्यों नहीं खरीद लेते. वह आपके निकट है. इस पर राजेश ने कहा कि हिसार में सब जगह पता किया है, लेकिन टैंक्स काफी महंगे हैं. आपके दाम जायज हैं तो इसलिए हम आपसे खरीदना चाहते हैं.

ये भी पढ़ें- Cyber Fraud में लुटे लोगों को 24 घंटों में वापस मिलेगा पैसा

राजेश को आशंका हुई कि शायद दुकानदार को शक हो गया है. राजेश ने वाट्सऐप पर कई तस्वीरें शेयर की, जोकि हिसार आर्मी केंट की थीं. (संभवत: वह तस्वीरें इंटरनेट से उठाकर शेयर की गई होंगी).

पहले पेमेंट करेंगे, फिर टैंक लेंगे

राजेश ने दुकानदार निर्मल को भरोसा दिलाने के लिए कहा कि पहले आर्मी की तरफ से आपको 50% पेमेंट एडवांस में मिलेगी और उसके बाद आप टैंक डिलीवर करवा देना. निर्मल को लगा कि ये ठीक है. पहले पेमेंट मिल जाएगी तो प्रॉब्लम नहीं रहेगी.

बड़ी अजीब थी पेमेंट की प्रक्रिया

खुद को आर्मी से बताने वाले राजेश ने कहा, “हम आपको 20 हजार रुपये के 10 कूपन देंगे. ये आपके नाम से होंगे और आपको उन्हें गूगल पे (Google Pay) से स्कैन (Scan) करना है. एक कूपन 2 हजार रुपये का है. जैसे-जैसे आप कूपन स्कैन करते जाएंगे, वैसे-वैसे आपको नए कूपन मिलते जाएंगे.”

ये भी पढ़ें- रेलयात्रियों को यूं लूट रहे हैं साइबर फ्रॉड

निर्मल को ये थोड़ा अजीब लगा. उन्होंने पहला कूपन 5 रुपये का भेजा और स्कैन करने को कहा. साथ ही कहा कि आप जितने रुपये का कूपन स्कैन करेंगे, उसके डबल आपको वापस मिल जाएंगे. कूपन के ऊपर आर्मी केंट हिसार लिखा था तो नीचे निर्मल का नाम. निर्मल ने कूपन स्कैन करके UPI Pin डाला तो उनके खाते से 5 रुपये निकल गए. पैसे निकलने के थोड़ी ही देर में निर्मल के अकाउंट में 10 रुपये की पेमेंट हो गई. राजेश ने बताया कि ये कूपन टेस्टिंग के लिए था. यदि आपको 10 रुपये मिल गए हैं तो कन्फर्म कर दें. निर्मल ने कन्फर्म कर दिया.

अब दूसरा कूपन 2 हजार रुपये का भेजा गया. निर्मल ने उस कूपन को भी स्कैन किया, लेकिन इस बार उनको वापस कुछ भी नहीं मिला. कुछ देर इंतजार करने के बाद ठग राजेश का फोन आया और उसने कहा कि ये कूपन बनाने में एक गलती हो गई है. अब आपको 10 कूपन स्कैन करने के बाद ही पूरे पैसे मिलेंगे. मतलब आप 2-2 हजार के 10 कूपन स्कैन करें. आपके खाते से 20 हजार रुपये निकल जाएंगे, तब आपको 40 हजार रुपये एक साथ वापस मिलेंगे.

निर्मल को अब समझ में आ गया था कि उनके साथ फ्रॉड हो रहा है. निर्मल ने कहा कि वह और कूपन स्कैन नहीं करेंगे क्योंकि उन्हें ये फ्रॉड लग रहा है. हालांकि इस पर राजेश ने कई देर तक निर्मल के भरोसा दिलाने की कोशिश की, मगर निर्मल ने फोन काट दिया.

यदि निर्मल अपने 2 हजार रुपये पाने की चाहत में बाकी कूपन भी स्कैन कर लेते तो उन्हें 20 हजार की चपत लग जाती.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here